इलेक्ट्रिक बाइक Zone

इलेक्ट्रिक बाइकें और स्कूटर

अगर आप इलेक्ट्रिक बाइक और इलेक्ट्रिक स्कूटर्स खोज रहे हैं तो ऐसे में बाइकदेखो आपके लिए सबसे अच्छा प्लेटफार्म है। भारत में अलग-अलग मैन्युफैक्चरर की 173 इलेक्ट्रिक बाइक्स बिक्री के लिए उपलब्ध हैं जिनकी शुरुआती कीमत 25,000 है। इस प्राइस टैग में सबसे पॉपुलर मॉडल्स TVS iQube Electric(Rs. 1 Lakh), Ola S1(Rs. 85,099) and Revolt RV400(Rs. 90,799) (सभी कीमतें एक्स-शोरूम) हैं। 2021 में आने वाली नई पॉपुलर ईवी की लिस्ट में Revolt RV Cafe Racer, Hero Electric AE-29 and Hero Electric AE-3 शामिल हैं। यदि आप भी कोई नया इलेक्ट्रिक 2-व्हीलर खरीदने का विचार कर रहे हैं तो बाइकदेखो आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है।   

इलेक्ट्रिक बाइक प्राइस लिस्ट 2020

MODELEX-SHOWROOM PRICE
TVS iQube ElectricRs. 1 लाख
Ola S1Rs. 85,099 - 1.10 लाख
रिवोल्ट आरवी400Rs. 90,799
Ather 450XRs. 1.13 - 1.32 लाख
Simple OneRs. 1.09 लाख
और पढ़ें

भारत में इलेक्ट्रिक की बाइक्स

मुख्य कॉम्पोनेन्ट

  • बैटरी

    रिचार्जेबल बैटरी इलेक्ट्रिक 2-व्हीलर का पावर सोर्स है और यह इलेक्ट्रिक मोटर को फ्यूल (बिजली) प्रदान करती है। मॉडर्न इलेक्ट्रिक बाइक्स और स्कूटर में लिथियम आयन बैटरी पैक का इस्तेमाल किया जाता है। यह इलेक्ट्रिक 2-व्हीलर में सबसे महंगा पार्ट होता है। यह बैट

  • मोटर

    इलेक्ट्रिक मोटर कन्वेंशनल 2-व्हीलर में लगी कॉम्प्लेक्स पावरट्रेन को रिप्लेस करती है। अकसर मैन्युफैक्चरर अपने 2-व्हीलर में चेसिस पर माउंट की गई मोटर बेल्ट के साथ या फिर कई बार चेन ड्राइव के साथ देते हैं। कई इलेक्ट्रिक 2-व्हीलर में हब मोटर्स भी दी जाती है

  • कंट्रोलर

    ईवी में बैटरी पैक से मोटर तक पावर के फ्लो को रेगुलेट करने के लिए कंट्रोलर दिया जाता है। यह उपलब्ध बैटरी के अनुसार पावर डिलीवर करता है। इसके जरिए अलग-अलग ड्राइविंग मोड में भी स्विच किया जा सकता है।

Electric vehicles के प्लस और माइनस पॉइंट

  • Pros
  • Cons

Zero vehicular pollution

Of course, this is the No.1 reason for such a massive shift to electric vehicles (EVs). They run on electric motors, and not use fossil fuels, which means they don’t let out any pollutants. In effect, the increasing adoption of EVs is being promoted to negate the major role that internal combustion-engined (ICE) vehicles have played in the world’s overall carbon emissions.

No Maintenance

Even after months of daily driving, all that an electric two-wheeler requires is regular cleaning and the occasional lubrication. They have very few moving parts and mechanicals compared to their conventional petrol-powered bikes and scooters. Also, they don’t require engine oil or air filters which are the commonly replaced components on a ICE vehicle. Hence, only basic parts need maintenance.

No Noise

Apart from polluting the air, conventional two-wheelers with petrol engines are quite noisy. A few actually enjoy this noise, but most would rather do away with it. With an electric two-wheeler, that is just what you can do, as the electric motor makes only a light hum even at full speed, reducing the overall noise pollution of your city.

Cost Efficient

Electric two-wheelers usually come with two types of cost benefits - no maintenance over time and a more stable energy source price. Since electric bikes and scooters run on electricity, they’re relatively more affordable. The price of electricity does not fluctuate as frequently as that of petrol and diesel. So, you will always pay relatively less to recharge and run your electric two-wheeler. In fact, some electric two-wheelers have a running cost of 1/10th of a ICE vehicle.

Government Incentives

Various countries and governments across the world have developed frameworks and implemented laws to promote the ownership of electric two-wheelers. In India, the government provides FAME II incentives, which bring down the on-road price of an electric two-wheeler considerably.

Higher Initial Investment

Since electric two-wheelers are not as widely manufactured as their conventional cousins, their cost is still quite high. This makes EVs inaccessible for a large population, as not everyone is willing or can afford to pay the high premium. The primary reason for the high cost of electric two-wheelers is the lithium-ion batteries, which sometimes can be 50 per cent more than the cost of the vehicle itself.

Short Range

With the current level of battery technology, the range of an electric two-wheeler is mostly lesser than that of its conventionally powered counterpart. This coupled with the limited charging infrastructure deters EV buyers.

Not-so-great on performance

Most of the premium, modern electric two-wheelers have an unimpressive top speed for the price they command. Sure, the initial acceleration is high but electric motors usually lose their steam as the speeds climb. None of the reasonably priced modern electric two-wheelers sold in India is properly highway worthy so far. Even the high-speed electric scooters on sale have a top speed in the range of 60-80kmph and are priced over Rs 1 lakh.

Charging Infrastructure

The lack of good charging infrastructure poses a problem, particularly in developing countries such as India. Once that is taken care of, it could essentially eliminate range or future anxieties that plague electric two-wheeler owners. While growth is expected in the next few years, finding a charging point right when you need it is not as easy as finding a fuel bunk yet.

Charge times

It takes just two minutes to refuel a bike or a scooter, but charging an electric vehicle can take a couple of hours at the bare minimum. Yes, there is the advantage of quick charging tech now, which can give your EV a full charge in just about an hour. However, don’t expect to find these fast chargers everywhere just yet. Moreover, not all electric two-wheelers have fast-charging capability as it puts additional strain on the battery’s life. That said, a few companies have adopted swappable battery technology, which is a novel way to minimise downtime while charging and also reduce range anxiety to a certain extent.

Limited Options

This may be a temporary concern considering the influx of EVs expected from varied manufacturers over the next couple of years. Currently, however, you can count the available options on your fingertips. Thanks to the limitation in battery technology, the range remains limited too. This is one of the reasons why most manufacturers dabble in the scooter segment rather than the motorcycle space.
Scooters are generally associated with urban runabouts and hence, it makes sense for brands to introduce electric options. Motorcycles are a different ballgame as the usage is always expected to be higher, and consequently, they’re expected to offer better range. The Indian two-wheeler segment is still some way from offering electric motorcycles that are good enough to replace a conventional petrol-powered two-wheeler.

Electric Bikes By brand

ब्रांड सभी देखें

इलेक्ट्रिक बाइकें की तुलना करें

दिल्ली में *एक्स-शोरूम कीमत

User Reviews of E बाइकें

जल्द आने वाली इलेक्ट्रिक बाइक ब्रांड

ब्रांड सभी देखें

इलेक्ट्रिक बाइकें फोटो

FAQs on Electric बाइक और स्कूटर

रेगुलर बाइक्स के मुकाबले ई-बाइक के क्या फायदे हैं? 

इलेक्ट्रिक बाइक्स की मेंटेनेंस कॉस्ट काफी कम होती है और इसे मेंटेन करना भी बेहद आसान होता है। पेट्रोल पावर्ड टू-व्हीलर के मुकाबले इलेक्ट्रिक बाइक की रनिंग कॉस्ट काफी कम होती है। कई इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर की रनिंग कॉस्ट प्रति किमी पेट्रोल पावर्ड बाइक या स्कूटर का लगभग 1/10वां हिस्सा होती है।

सिंगल चार्ज पर इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल में मुझे कितनी रेंज मिल सकती है?

भारत में अधिकतर इलेक्ट्रिक स्कूटर की ऑन-रोड रेंज 75 किलोमीटर से 90 किलोमीटर के बीच है। इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल्स में बड़ा बैटरी पैक लगा होता है और यह सिंगल चार्ज पर यह 100 से 110 किलोमीटर तक की रेंज तय करने में सक्षम होती हैं। लेकिन, यह नंबर हाई-स्पीड और प्रीमियम इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स के लिए है। ज्यादा अफोर्डेबल इलेक्ट्रिक व्हीकल की कम रेंज होती है।

ई-बाइक की बैटरी को चार्ज करने में कितना समय लगता है?

अधिकतर इलेक्ट्रिक बाइक्स स्टैंडर्ड 5ए वॉल चार्जर के जरिए चार्ज होने में करीब 5 से 6 घंटे का समय लेती हैं। यदि बाइक की फ़ास्ट चार्जिंग क्षमता है तो ऐसे में वह एक घंटे से भी कम समय में चार्ज हो सकती है। चार्जिंग टाइम लीड एसिड बैटरी, लिथियम आयन बैटरी और बैटरी कैपेसिटी के अनुसार निर्भर करता है।

क्या इलेक्ट्रिक स्कूटर/बाइक के लिए लाइसेंस की जरूरत पड़ती है?

यदि इलेक्ट्रिक स्कूटर या बाइक की टॉप स्पीड 25 किलोमीटर प्रति घंटे है तो ऐसे में आपको उसे चलाने के लिए टू-व्हीलर लाइसेंस या व्हीकल रजिस्ट्रेशन की जरूरत पड़ सकती है।

इलेक्ट्रिक स्कूटर/मोटरसाइकिल कैसे काम करती हैं?

इनमें इलेक्ट्रिक मोटर से पावर रियर व्हील पर बेल्ट ड्राइव, चेन ड्राइव या मेकेनिकल ट्रांसफर बॉक्स के जरिए ट्रांसमिट होती है। कई बार इलेक्ट्रिक मोटर रियर व्हील (हब मोटर) पर भी फिट की जाती है। इस मोटर के बेसिक्स पेट्रोल पावर्ड स्कूटर या बाइक से मिलते-जुलते होते हैं। हब मोटर में मोटर (इंजन), बैटरी (फ्यूल), ट्रांसमिशन और ड्राइव सिस्टम शामिल होते हैं।

इलेक्ट्रिक स्कूटर/मोटरसाइकिल कितनी फ़ास्ट होती हैं?

इलेक्ट्रिक मोटर 0 आरपीएम से टॉर्क जनरेट करना शुरू करती हैं। ऐसे में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स एक्सलरेशन के मामले में काफी फ़ास्ट होते हैं।  लेकिन, रेंज को सीमित रखने के लिए अधिकतर इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर मैन्युफेक्चरर बाइक्स की टॉप स्पीड 65 किलोमीटर प्रति घंटे से 85 किलोमीटर प्रति घंटे के बीच रखते हैं। वर्तमान में भारत में बिक्री के लिए उपलब्ध सबसे फ़ास्ट इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर एथर 450एक्स है जो 0-60 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड को महज 6.5 सेकंड में तय कर लेता है।

क्या इलेक्ट्रिक स्कूटर/मोटरसाइकिल के लिए इंश्योरेंस की जरूरत पड़ती है?

हां, इंटरनल कंबशन पावर्ड टू-व्हीलर (आईसी इंजन) की तरह ही इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर को भी इंश्योरेंस की जरूरत पड़ती है।

क्या इलेक्ट्रिक स्कूटर/बाइक में मोटर लगी होती है?

हां, इलेक्ट्रिक स्कूटर या बाइक में इलेक्टिक मोटर लगी होती है जो व्हीकल को पावर पहुंचाती है।

क्या इलेक्ट्रिक स्कूटर/बाइक में ब्रेक्स लगे होते हैं?

हां, वरना इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को ग्राहकों तक बेचने की अनुमति नहीं दी जाती है। सभी इलेक्ट्रिक बाइक्स और स्कूटर्स जो 11 किलोवाट से ज्यादा की पावर जनरेट करते हैं उनमें एबीएस देना अनिवार्य होता है। वर्तमान में भारत में बिक्री के लिए उपलब्ध सभी इलेक्ट्रिक बाइक्स और स्कूटर्स में सीबीएस दिया गया है।

क्या इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल्स में गियर होते हैं?

वर्तमान में किसी भी इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल में ट्रेडिशनल गियरबॉक्स नहीं मिलते हैं। ट्रांसमिशन सिस्टम में मैकेनिकल गियर दिए जा सकते हैं जिससे कि मोटर से पावर को रियर व्हील तक पहुंचाया जा सके।

क्या इलेक्ट्रिक स्कूटर/मोटरसाइकिल्स आवाज़ करती है?

हां, इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल या स्कूटर में लगी मोटर से तेज़ आवाज़ आती है या एक ऐसी आवाज़ आती है जो आमतौर पर बेल्ट ड्राइव सिस्टम से संबंधित होती है। कई इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल्स जिसमें चेन ड्राइव का इस्तेमाल किया जाता है वह चेन नॉइज़ जनरेट करती हैं। कन्वेंशनल इंजन के मुकाबले यह नॉइज़ बिलकुल धीमी होती है। यदि आप इंटरनल कंबशन से लैस टू-व्हीलर जैसी ही आवाज़ की उम्मीद इलेक्ट्रिक व्हीकल से भी करते हैं तो ऐसे में आप निराश हो सकते हैं। हालांकि, रिवोल्ट आरवी400 बाइक के साथ आर्टिफिशियल एग्ज़हॉस्ट नोट ऑप्शन भी मिलता है।

क्या इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल सुरक्षित होती है?

हां, इलेक्ट्रिक व्हीकल एकदम सुरक्षित हैं। आमतौर पर सभी इलेक्ट्रिक व्हीकल को आईपी67/आईपी68 वाटरप्रूफ रेटिंग मिलती है जिसके चलते राइडर के लिए 1 मीटर से कम पानी में डूबे स्कूटर को चलाना भी बेहद आसान हो जाता है।

क्या इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल सुरक्षित होती है?

वर्तमान में अधिकतर इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल्स ऑटोमैटिक हैं। हालांकि, अधिकतर इलेक्ट्रिक कंपनियों ने अपनी इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल्स के लिए गियरबॉक्स पर भी काम करना शुरू कर दिया है।

कौनसी इलेक्ट्रिक बाइक/स्कूटर बेस्ट है?

इस प्रश्न का जवाब इस बात पर निर्भर करता है कि आपको बाइक या स्कूटर किस उद्देश्य से चाहिए। वर्तमान में हाई-स्पीड इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर सेगमेंट में बजाज चेतक, एथर 450एक्स और रिवोल्ट आरवी400 जैसे पॉपुलर ऑप्शंस मौजूद हैं।

जल्द आने वाली इलेक्ट्रिक बाइकें

दिल्ली में *संभावित कीमत

इलेक्ट्रिक साइकिल

दिल्ली में *एक्स-शोरूम कीमत
×
We need your city to customize your experience